छोटी सी भूल भाग – १०

वो मेरे पास आया और बोला, रितु एक बात कहूँ ?
मैने कहा, कुछ भी कहो पर मैं वो नहीं करने दूंगी।
वो बोल सुनो तो सही.
मैने कह, बोलो क्या कहना है।
वो बोला, तेरी गांड बहुत बहुत सेक्सी है, मुझे लगता है कि इसे सेक्स का भरपूर मजा मिलना चाहिए।
मैं बोली, चुप करो।
वो बोल, नहीं मैं सच कह रहा हूँ, तेरी गांड जैसी हॉट गांड मैने आज तक नहीं देखी, इसका सब कुछ एकदम परफेक्ट है।
ऐसी बातें सुन कर कौन नहीं शरमायेगा और मैने अपना चेहरा हाथों में छिपा लिया और बोली, अब बस करो मुझे शरम आती है
वो फिर बोला, जब तुझे पहली बार देखा था तो यही सोचा था कि इसे तो किसी अगले जनम में ही पाया जा सकता है, इस जनम में तो मुझ गरीब की दाल नहीं गलेगी, और सच पूछो तो मुझे तेरा, मेरे इतने करीब आना सपना सा लग रहा है।
मैं बड़ी भावुक हो कर सब सुन रही थी।
मैं बोली, बिल्लू बस करो मैं बहक रही हूँ।
वो बोला, अगर बहक जाओ तो अच्छा है, इस गरीब का भ्रम टूट जायेगा कि तुझे सिर्फ अगले जन्म में ही पाया जा सकता है।
मैं बोली, प्लीज बस करो अब, मुझे कुछ-कुछ हो रह है, मैं जा रही हूँ।
वो बोल क्य तू मेरा भ्रम तोड़ेगी कि तुझे सिर्फ अगले जन्म में ही पाया जा सकता है?
मैं सोच रही थी कि क्या जवाब दूं इस बात का।
मेरे पास कोई जवाब नही था।
इतनी तारीफ मैने आज तक किसी और से तो क्या अपने पति से भी नहीं सुनी थी।
वह मेरे पीछे आ गया और बोला, ले मैं अपना भ्रम तोड़ने की एक कोशिश करता हूँ, अब मेरी जीत तेरे हाथ में है।
अब तक उसके लिंग से थूक सूख चुका था, और मेरे वहाँ जो थूक लगाया था वो भी गयब हो चुका था।
उसने मेरे नितम्बों को फैलाया और मेरे गुदा द्वार पर ढेर सर थूक लगा दिया।
मैं कुछ भी कह पाने की स्थिती में नहीं थी।
कहती भी तो क्या कहती?
मेरे शरीर में बिजली की तेजी से लहरें उठने लगी।
मैने पीछे मुड़ कर देखा तो वो फिर से अपने लिंग पर थूक लगा रह था।
उसने मेरी आँखों में देखा और बोला, प्लीज थोड़ा सा झुक जा।
मैं शरमा गयी और उसके लिए मदहोश हो कर झुक गई।
मेरी सारी मर्यादओं की उन झाड़ियों में धज्जियाँ उड़ गई।
मेरा दिमाग काम करना बन्द कर चुका था।
उसबे अपने दोनों हाथों से मेरे नितम्बों को फैलाया और अपना लिंग मेरे गुदा द्वार पर टिका दिया।
अब बस एक हल्के से धक्के की देर थी और वो मेरे अन्दर होता।
वो बोला, जब तक तुम डालने को नहीं कहोगी, मैं नहीं डालूंगा।
मैं अजीब परेशानी में फंस गई।
मैने कहा प्लीज बिल्लू, जो करना है कर लो, मैं कुछ नहीं बोल सकती।
वो बोला मेरा भ्रम टूटने के लिए यह जरूरी है।
वो अपना लिंग वहाँ टिकाये खड़ा रहा और मैं खामोशी से झुकी रही।
वो बोला प्लीज बोल ना क्या करूं, हटा लूं या डाल दूं।
मैं आज तक आपने पति को भी ऐसी बातें नहींबोल पायी थी, इसलिए बड़ी परेशान हालत में थी।
वो फिर बोला. प्लीज बोल ना क्या करूं?
मैं बोल पड़ी डाल दो।
वो बोला, क्या कहा? फिर से कहो।
मैने शरमाते हुए कहा, डाल दो।
और वक्त मानों थम गया।
उसने एक हल्का सा धक्का मारा और उसका लिंग एक इंच अन्दर सरक गया।
मैं दर्द से चिल्ला उठी… आई….ई….ई…ई…ई…ई.., और बोली जरा धीरे से।
वो वहीं रुक गया।
वो बोला, मैं धीरे-धीरे से पूरा डालूंगा, तू चिन्ता मत करना दर्द नहीं होने दूंगा।
वह बहुत धीरे- धीरे मेरे गुदा द्वार में अपना लिंग सरकाने लगा।
मैं यह देख रही थी कि बिल्लू अपने शब्दों का पक्का है।
मुझे दर्द तो बहुत हो रहा था पर मैं चुपचाप वहां झुकी हुई सब झेल रही थी।
मैं चिल्ला कर पड़ोसियों को नहीं सुना सकती थी।
धीरे धीरे उसने अपना पूरा लिंग मेरे अन्दर सरका दिया और बोला, आआआह्ह्ह, तूने आखिर मेरा भ्रम तोड़ ही दिया, तू सच में सुन्दर ही नहीं एक अच्छी इन्सान भी है।
मैं हैरान थी कि उसका इतना लम्बा लिंग पूरा मेरी गुदा में समा चुका है।
मैं उसके जाल में पूरी तरह से फँस चुकी थी।
मुझे वहाँ जुके, झुके ये खयाल आ रहा था कि आखिर इस बिल्लू ने मेरी…….. मैं अपनी मर्यादाओं का युद्ध हार चुकी थी।
उसने पूछा, क्या अब मारूं?
मैं शरम से लाल हो कर बैचेन हो गई।
वो बोला, मैने अब तुझे पा लिया है, तू चाहे तो मैं बाहर निकाल सकता हूँ, बता निकाल लूं या फिर तेरी सेक्सी गांड मारना शुरू कर दुं?
मैं हैरान थी कि, हे भगवान! ये मुझे से क्या पूछ रहा है, मैं कैसे जवाब दूंगी!
मैं अपने अन्दर चुपचाप उसका लिंग लिये, झुकी रही।
वो फिर बोला, बोल ना क्या करूं?
मैं पहले भी देख चुकी थी कि ये सुने बिन नहीं मानेगा,
मैं सोच रही थी कि अब इसने पूरा मेरे अन्दर डाल ही दिया है तो अब क्या बाकी रह गया है।
उसने फिर पूछा बोल ना मारूं क्या?
वो जैसे ये सुन कर पागल हो गया,और बोला, थेंक्यू।
उसने अपना पूरा लिंग बाहर की ओर खींचा और इससे पहले कि वो पूरा बाहर निकाल पाता, उसने फिर से मेरे अन्दर धकेल दिया।
मेरी साँसे थम गई और मेरी आँखों के आगे अन्धेरा छा गया, बहुत ही अच्छा सा अहसाह हो रहा था।
वो बार – बार उसे बाहर की और खींचता और वापस बार बार अन्दर धकेलने लगा।
मुजे बहुत ज्यादा मजा आ रहा था, उसका लम्बा लिंग मेरे नितम्बों की हर गहराई तक पहुँच रहा था।
मैं सोच रही थी कि ऐसा मजा तो संजय के साथ भी कभी नहीं आया, ये बिल्लू चीज क्या है!!
और मैं अचानक ये बातें सोच कर खुद पर शर्मिन्दा हो गई और मैने अफसोस किया कि कम से कम मुझे संजय के साथ इस बिल्लू की तुलना नहीं करनी चाहिए। आखिर उनकी क्या गलती है? उन्होने तो अब तक मुझे दुनियां की हर खुशी दी थी।
अचानक मैने महसूस किया कि बिल्लू की स्पीड अब बढ़ गई है।
उसके धक्कों की स्पीड बढ़ते ही मेरा मजा भी कई गुना बढ़ गया।
मैं हैरान थी कि मैं कैसे उसके हर धक्के का मजा ले रही हूँ। अबी कल तक मैं उसे भुला देना चाहती थी।
बिल्लू ने पूछा, कैसा लग रहा है?
मैने कहा, बहुत अच्छा..बहुत अच्छा!
वो ये सुन कर जोर से हँस पड़ा और बोला, मुझे तेरे से भी ज्यादा मजा आ रहा है, ऐसी सुन्दर गाँड रोज कहाँ मिलती है।
मैं ये सुन कर शरम से लाल हो गई।
मैने अचानक महसूस किया कि मेरी योनि से नदियाँ बह निकली है, और उसका पानी मेरी टांगों तक आ गया है।
वो बोला, बता कितनी देर तक मारूं, तू जितना कहेगी, मैं मारता रहूंगा।
मैं शरमा गई और उससे पूछा, टाईम क्या हुआ है?
वो बोला साढ़े तीन।
ये सुनते ही मेरे पैरों के नीचे से जमीन निकल गई।
संजय ३ बजे घर आने वाले थे, और चिन्टू की स्कूल बस भी आने वाली होगी।
(चिन्टू वैसे २ बजे तक घर आ जाता है, आज उनकी स्कूल से बच्चों को पिकनिक पर ले गये थे। ४ बजे तक लौटने का प्लान था।)
मैं होश में आ गई और बोली, जल्दी खत्म कर दो, मेरे पति घर आ चुके होंगे और मुझे ढ़ूंढ रहे होंगे।
वो बोला, अरे ये तो मुझे भी ध्यान नहीं रहा।
उसने अपने धक्कों की स्पीड और भी तेज कर दी।
मैं फिर से आनन्द के सागर में डूब गई।
वो चीख उठा, आआआआह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्हऽऽऽऽऽऽ और ढ़ेर सारा गर्म गरम पानी मेरी गुदा में डाल दिया।
वो बोला, ऐसा मजा आज तक नहीं आया, थेन्क्यू, वेरी मच।
मैने शरमाते हुए कहा, प्लीज अब निकल जाओ, मुझे जल्दी जाना है।
वो बोला, ओह हाँ! सोरी मैं फिर से भूल गया।
उसने धीरे से अपना लिंग बाहर निकाल लिया, और मैं सीधी खड़ी हो गई।
मेरे पाँव लड़खड़ा रहे थे, मुझे भी ऐसा मजा कभी नहीं आया था। मुझे अपनी गुदा में अब हल्का- हल्का दर्द हो रहा था।
मैने अपनी सलवार पहली और बिल्लू से कह, मैं चलती हूँ।
वो बोला, रूक तो।
मैने कहा, अभी बिल्कुल वक्त नहीं है, संजय मुझे खोज रहे होंगे।
मैं कपड़े पहन कर झाड़ियों से निकली और खिड़की के नीचे से थोड़ा झुक कर चलने लगी।
मुझे डर था कि अगर संजय घर में हुए तो कहीं मुझे खिड़की से यहाँ ना देख ले।
मैने पीछे मुड़ कर देखा तो पाया कि वो उन झाड़ियों से मुझे ऐसे जाते हुए देखकर मुस्कुरा रहा है।
घर पहुँच कर मैने पाया कि संजय टीवी देख रहे थे।
मुझे देखते ही वो बोले, कहाँ थी तुम?
मैने डरते डरते कहा वो मेरे कॉलेज की एक फ्रेन्ड आई थी, उसी के साथ मार्केट चली गई थी। सोरी, लेट हो गई।
संजय बोले, और तुम खाना भी नहीं बना कर गई।
मैं खुद पर बहुत शर्मिन्दा हो गई और आज के दिन को कोसने लगी।
मैने कहा, मैं अभी मैं कुछ बनाती हूँ। वो बोले कोई बात नहीं, मैं बहर खा लूंगा। तुम चिन्ता मत करो। मैं अब लेट हो रहा हूँ।
उन्होने मेरे चेहरे पर हाथ रखा और बोले, बाय.. शाम को मिलते हैं।
मेरी आँखों में आँसू आने को हो गये कि मैं संजय को धोखा दे रही हूँ और ये मुझे इतना प्यार करते हैं।
मैं संजय के जाने के बद फौरन बाथरूम में चली गई और नहाने लगी।
नहाकर मैने कपड़े बदले और वो कपड़े अखबार में लपेट कर कूड़ेदान में डाल दिए।
मैं आज की कोई याद रखना नहीं चाहती थी।
वक्त जैसे खुद को दोहरा रहा था।
मैं खिड़की में आई तो पाया कि बिल्लू अभी भी वहीं खड़ा है।
वो मुझे देखकर खिड़की के पास आने लगा, और मैने गुस्से में खिड़की बन्द कर दी और अपने बेडरूम में आकर अपनी किस्मत पर रोने लगी। आज मेरा सब कुछ लुट चुका था।
फिर मैने खुद को संभाला और फैसला किया कि ये पहली और आखिरी बार था, अब मैं बिल्लू को कभी कोई मौका नहीं दूंगी।


Comments are closed.


error:

Online porn video at mobile phone


bhabhi ki gand mari in hindiसकसी आंटी कामवाली आहेbhai se chudisexstory in gujratichut kya haunty in sexymaa bete ki chudai hindi storyमज़ा आ रहा है और चोदने दे माँ चचीporn hindi memaa ke sath sambhogchut chudai ki kahani hindichodna storyindian chut storybhai bahan me chudaibhai chodchut ki khujalimeene dadi ko choda xxx khani com sexy jawaniaunty aur chachi ek sathpunjabi bhabhi ki gand marilatest hindisex storiesvidhwa maa ko chodasunitha xxxchoti ladki ki chut ki photochut picharaunty hindi sexy storyब्रा पहेन कर चोदाईdesi ladki chutmeri chudai ki hindi kahaniadimanav sexwww xxx hindi kahani comjab sechut ki kahani hindi meinmom chudai storynew chut kahaniसपना Sex sto .comboor chudai hindiलङकी।को।चोढा।रुambikapur sex videoholi pe chudaiteacher chudaiincest sex stories in hindidesi choot darshanmaa chudai comgand chudai ki kahaniantarvasna gujaratipurana sexhindi sex porn storyshilpa ki chudaipadosi ki biwilatest hindi sexy kahaniyarasili chut photoआण्टी की गाण्ड प्यासlatest hindi sexxxx sugarat ma gand chodai kahanimallu storiesdesi chachi ko kase padake chode xxxajab gajab storyrandi auratantarvasna full hindiWww.dudhwali anti chudai sexy story xxx videobehan ko khet me chodabhabhi ji ki chutladki ki nangi chutPatni dosto k samne km kapdo mai chudai xxx khaniya sex on suhagratकहानी xxx चोल पुलिस खेल खेल मेwww bhabhi ki chudai sex comladki ki chootdesi sexsttoriAntarwana teacher ghar ka nokarjija sali ki sex storygandu khaniyabahu sex storysexykhaniyahotristo ki chudai kahanipadosi ki biwiwww rekha ki chudaiaunty ko kutte ne chodaantarvasna gay storydesi sadhu sexhindi bhai behan chudai storymastram ki mastimaa bete ki suhagratNepali virgin ladki ki Pahli chudai bap se Hindi storiesaurat ki kutte se chudaihindi incest sex storiesहजीरा गुजराती कालेज की लड़की की चोदाईboor ki kahanilund me chootsexy aunty chudai kahanikamasutra bhabhip0rn hindiMoti bhabhi chudai freehdx.comladki chodne ki kahani photobhabhi Ne lund pakad ke Chalna Sikhaya Hindi awaz mein chudai video free